नई दिल्ली: सड़कों पर उतरेंगी 3000 बसें, नए साल में दिल्ली वालों को मिलेगी नई सौगात |

टेंडर एक हजार कलस्टर बसें, एक हजार सेमी लो फ्लोर बसें और एक हजार इलेक्ट्रिक बसें खरीदने के लिए जारी होगा. बसें खरीदने के लिए परिवहन विभाग ने डिम्ट्स को कंसलटेंट बनाया है. इलेक्ट्रिक बसों के लिए दिल्ली सरकार ने 2500 करोड़ की परियोजना बनाई है.

दिल्ली की सड़कों पर इलेक्ट्रिक बसों का पहले चरण का ट्रायल पूरा हो चुका है. अभी दूसरे चरण का ट्रायल रहा है. ट्रायल पूरा होने पर ग्लोबल टेंडर आमंत्रित किया जाएगा. साल 2012 के बाद से दिल्ली परिवहन निगम के बेड़े में एक भी नई बस नहीं जुड़ सकी है. जनवरी में टेंडर जारी होने पर जुलाई 2019 में नई बसों की पहली खेप सड़क पर आएगी. इलेक्ट्रिक बसों को दिल्ली परिवहन निगम चलाएगा या क्लस्टर योजना के तहत चलाया जाए इस पर फैसला अभी नहीं हो सका है.

 

अनुकूल बनाई जाएंगी सड़कें
विशेषज्ञों के अनुसार राजधानी की सड़कें इलेक्ट्रिक बस परिचालन के लिए अभी अनुकूल नहीं है. इलेक्ट्रिक बसों के लिए दिल्ली सरकार को नए सिरे से आधारभूत संरचना की जरूरत होगी. मसलन नए बस अड्डों व सैकड़ों चार्जिग स्टेशन स्थापित किए जाएंगे.
बसों की खरीद का काम डिम्ट्स को 
परिवहन विभाग व डिम्ट्स के बीच काफी विवाद होता रहा है. कैबिनेट नोट में भी परिवहन विभाग ने डिम्ट्स की कार्यक्षमता पर सवाल खड़े किए हैं कि इसके पास इलेक्ट्रिक बस खरीद के लिए कोई विशेष कार्यक्षमता नहीं है, लेकिन अब तीन हजार बसों की खरीद का काम दिल्ली सरकार ने डिम्ट्स को दे दिया है.

अन्य महानगरों में तैयारी

  1. बता दें कि दिल्ली के अलावा देश के अन्य महानगर इंदौर, बेंगलुरू, अहमदाबाद, लखनऊ और जम्मू में इलेक्ट्रिक बस चलाने की तैयारी चल रही है.
  2. पिछले दिनों दिल्ली में ई व्हीकल को लेकर आयोजित सम्मेलन में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा था
  3. कि दिल्ली वालों को बेहतर सार्वजनिक परिवहन सेवा देने के लिए सरकार तीन हजार नई बसें खरीद रही हैं,
  4. जिसमें से एक हजार इलेक्ट्रिक बसें होंगी. इतनी बड़ी संख्या में दुनिया के किसी देश के शहर में इलेक्ट्रिक बसें नहीं हैं.
  5. इसलिए दिल्ली में जब एक हजार इलेक्ट्रिक बसें आ जाएंगी तो उसके क्या प्रभाव हुए यह दुनिया के लिए उदाहरण साबित होगा.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *